Powered by Blogger.

Wednesday, February 8, 2017

मोटा लंड लेने की आदत

हैल्लो दोस्तों, मैंने पिछले कुछ समय में ही मस्ताराम डॉट नेट की बहुत सारी मनोरंजन से भरपूर कहानियों को पढकर उनके मज़े लिए है और आज में आप लोगों को अपनी भी एक सच्ची कहानी वो घटना बताने जा रहा हूँ जिसमे मैंने अपनी पत्नी की बड़ी बहन मतलब की मेरी साली को उसके घर में उसकी मर्जी से चोदा और पूरी रात उसके साथ मैंने बड़े मज़े किए।
इस घटना के बाद मेरा जीवन एकदम बदल गया और में अपनी पत्नी के साथ साथ उसकी बहन की चुदाई के भी मज़े लेने लगा और अब आप सभी लोग इसको पढ़कर मज़े लीजिए। दोस्तों मेरी शादी फरवरी में हुई थी और मेरी पत्नी बहुत ही सुंदर है और उससे भी ज्यादा सुंदर और सेक्सी मेरी दोनों बड़ी सालियाँ है। दोस्तों मेरी शादी के समय मेरी बड़ी साली के दो बच्चे थे और उसकी शादी को करीब 6 साल पूरे हो चुके थे और मेरी दूसरे नंबर वाली साली की शादी मुझसे करीब 8 महीने पहले ही हुई थी।

मेरी बड़ी साली अपने पति के साथ अपने ससुराल में रहती है और दूसरे नंबर वाली साली करीब मेरी शादी के 6 महीने बाद अपने ससुराल से किसी बात को वजह से नाराज़ होकर अपने मयके चली आई। वो अपनी माँ के साथ रहने लगी और घर के सभी लोगों ने उसके साथ साथ उसके पति को भी बहुत समझाया, लेकिन वो नहीं समझे और उस वजह से वो दोनों अलग अलग रहने लगे। दोस्तों मेरी बड़ी साली के घर में उसके दो बच्चे, उसका पति और उसकी सास भी रहती थी। उनका घर दो मंजिल का था, जिसमे नीचे वाले हिस्से में उसकी सास रहती और ऊपर वाली मंजिल पर दो बेडरूम थे। उसमे से एक मेहमानों के रुकने का कमरा और एक मेरी साली का बेडरूम था। दोस्तों मेरी बीबी उस समय अपनी बची हुई पढ़ाई कर रही थी और किस्मत से उसके पेपर का स्थान मेरी बड़ी साली के शहर में आ गया और वैसे भी मेरी साली मुझे अक्सर अपने घर आने के लिए बोलती थी, लेकिन में ना जा सका और उस समय मेरी शादी को करीब पांच महीने ही हुए थे और अब मुझे मेरी बीवी के उस पेपर की वजह से मेरी साली के घर पर जाना पड़ा। उस बात की वजह से मेरी बीवी बड़ी खुश थी और उसको अपनी बहन से मिलने का मौका जो मिल रहा था।

फिर में और मेरी बीबी के पेपर की वजह से उनके घर पर एक दिन पहले ही पहुँच गए और हमने यह बात उन्हें नहीं बताई थी, इसलिए हमें वहां पर अचानक देखकर मेरी साली और उसका पति बहुत खुश थे। हम लोग शाम को करीब पांच बजे के आसपास उनके घर पहुँचे और वो कुछ देर बातें करने के बाद रसोई में जाकर हमारे लिए तुरंत चाय बनाकर ले आई और फिर कुछ घंटे इधर उधर की बातें करने के बाद हम सभी ने एक साथ बैठकर रात का खाना खाया और फिर उसके बाद हम सभी एक साथ बैठकर गप्पे मारते रहे और हंसी मजाक करते रहे। फिर कुछ देर उनके साथ बातें करने के बाद मुझे सफ़र की थकान होने की वजह से मैंने सोने के लिए बोला तो मेरी साली ने मुझे अपने साथ में ले जाकर अपने बेडरूम में सुला दिया। दोस्तों में बताना चाहूँगा कि मुझे दूसरी जगह नींद बहुत कम आती है और में हमेशा अंधेरे में ही सोना ज्यादा पसंद करता हूँ इसलिए मैंने मेरी साली को जब वो कमरे से बाहर जा रही थी तब उसको मैंने लाइट बंद करने के लिए कहा तो उसने बड़ी लाइट को बंद कर दिया और एक ज़ीरो वाट का बल्ब उसने जलाकर छोड़ दिया। उसके बाद वो बाहर चली गई और में सोने की कोशिश करने लगा। फिर कुछ समय के बाद मुझे हल्की हल्की नींद आने लगी और में सोने लगा ही था कि तभी मुझे ऐसा महसूस होने लगा जैसे कि कोई मेरे लंड को छेड़ रहा है, जिसकी वजह से मेरी नींद खुल गयी, लेकिन में फिर भी चुपचाप उस हरकत को सहता गया और फिर कुछ देर बाद जब वो हरकत ज्यादा बढ़ गई तो मैंने अपनी आँख को खोलकर देखा। दोस्तों में देखकर एकदम चकित रह गया क्योंकि वो मेरी साली थी जो मेरे लंड को कपड़ो के ऊपर से पकड़ रही थी और उसको सहला रही थी और वो कभी कभी मेरी जांघो में भी हाथ फेर रही थी और अब उसने मेरी तरफ देखकर मुझे आवाज़ देकर वो मुझसे बोली कि अब उठो ना आओ ना हम कुछ करते है। फिर मैंने उनको मना कर दिया और बोला कि यह सब ग़लत है और अगर आपके पति ने हमे यह सब करते हुए उस हालत में देख लिया तो बहुत बड़ा पंगा हो जाएगा। आपको पता होना चाहिए इस समय मेरी पत्नी और अपने पति दोनों ही मौजूद है और हम पकड़े जा सकते है, इसमे बहुत खतरा है प्लीज अब आप यहाँ से चली जाए।

फिर उसने मुझसे बहुत बार कहा आग्रह किया, लेकिन में हमेशा उसको मना करता रहा और तभी मैंने उससे पूछा कि मेरी बीबी कहाँ? तो उसने मुझसे कहा कि वो अपने जीजाजी से मज़े ले रही और इसलिए में भी आपके साथ वो मज़े लेने आई हूँ और हमें भी तो इस रात का फायदा उठाना चाहिए जैसे वो दोनों उठा रहे है और आप मुझसे मना कर रहे हो और तभी उसने मुझसे कहा कि अगर आपको मेरी बात का विश्वास नहीं है तो आप ही मेरे साथ चलकर खुद ही देख लो। फिर में उसकी बात सुनकर तुरंत उठा। वैसे मुझे उसकी बात पर बिल्कुल भी विश्वास नहीं था और में उसके साथ जाकर दूसरे कमरे में देखने के लिए चल दिया। मेरे साथ में मेरी बड़ी साली भी चल रही थी। फिर वहाँ पर मैंने देखा कि उस कमरे के दरवाजे के बीच में एक छोटा छेद होने की वजह से मुझे बाहर से सब साफ साफ कुछ दिखाई दिया इसलिए मैंने उस समय देखा कि मेरी बीवी और मेरा साडू (बड़ी साली का पति) 69 की पोज़िशन में है और वो दोनों एक दूसरे को चूस रहे थे, जिसको देखकर में बिल्कुल दंग रह गया और मुझे अपनी पत्नी की उस हरकत पर बहुत गुस्सा आ रहा था और वो धीरे धीरे अंदर का वो सेक्सी नजारा देखकर शांत हो गया। उसकी वजह से मेरे पूरे शरीर में तुरंत करंट आ गया जिसकी वजह से मेरा लंड तनकर खड़ा हो गया और में उठकर मेरे पास खड़ी मेरी साली के वहीं पर होंठ से होंठ और गाल के चुम्बन लेने लगा और उसके बूब्स को दबाने लगा। फिर मेरी साली ने मुझसे कहा कि पहले तो मना कर रहा था और अब सब्र भी नहीं हो रहा। फिर वो बोली कि चलो हम रूम में चलते है।

दोस्तों में आप सभी को बताना चाहूँगा कि मेरी बड़ी साली की लम्बाई 5.5 इंच और उसका रंग एकदम गोरा भूरा और वो ना ज्यादा मोटी है और ना ज्यादा पतली। वो एकदम सही आकार की है और उसकी अच्छे आकार की छाती और ठीक ठाक कूल्हे थे। फिर उसके बाद हम वापस बेडरूम में पहुँचे और अब मुझे मेरी साली के बूब्स इतने मस्त दिखाई दे रहे थे और बूब्स के साथ साथ उसकी गांड भी बहुत मस्त थी। दोस्तों अब मेरा निशाना मेरी साली की चूत और गांड को अपने लंड के मज़े देना ही था। मैंने पहली बार उसके नरम गुलाबी होंठो को चूमा, जिनको चूमते ही वो मुझसे लिपट गयी और उसके मेरे मुहं में अपनी जीभ को डाल दिया और वो मुझसे बोली कि जीजू तुम बहुत अच्छे हो और आज मुझे भी आप मेरी बहन की तरह चोदो। फिर मैंने उससे पूछा कि कैसे? तब उसने मुझसे कहा कि मेरी बहन ने आपके बारे में सब कुछ बता रखा है उसने मुझे यह भी बताया कि आपके लंड की लम्बाई 6 इंच और मोटाई 2 इंच है और मैंने तो शादी से पहले ही आपसे अपनी चुदाई करवाने का विचार बना रखा था, लेकिन मुझे कभी भी ऐसा कोई अच्छा मौका नहीं मिला और फिर मैंने उससे पूछा कि आपके पति के लंड की लम्बाई कितना है? तो वो बोली कि कुछ ज्यादा नहीं उनका लंड करीब 4 इंच की लम्बाई और 2 इंच की मोटाई वाला है और फिर वो मुझसे बोली कि आप मेरी बहन की तरह मुझे भी अपने लंड से धक्के मारकर मेरी चुदाई करके आज मेरी चूत का भोसड़ा बना डालो और मुझे भी वो मज़ा दे दो। फिर मैंने बिना देर किए तुरंत उसका कुर्ता नीचे उतार दिया और उसके बूब्स को ब्रा के अंदर देखकर मैंने तुरंत ब्रा को भी खोल दिया और सबसे पहले में उसके दोनों गोलमटोल, गोरे बूब्स को मसलने लगा। उसके बूब्स इतने प्यारे और मुलायम थे कि मुझे इतना मज़ा आ रहा था कि में सोच रहा था कि में इसके बूब्स ही पीता रहूँ। फिर मैंने उसके बूब्स को करीब बीस मिनट तक चूसा और उनको मस्त दबाया। फिर मैंने उसकी सलवार को उतार दिया और पेंटी को भी उतार दिया। अब मैंने उसकी गोरी गोरी जांघो को किस करते हुए में उसकी चूत के ऊपर भी चूमने और उसको सूंघने लगा, जिससे बहुत मस्त मनमोहक मदहोश कर देने वाली खुशबू आ रही थी, जिसकी वजह से पागल हो चुका था और कुछ देर के बाद मैंने उसकी चूत को चाटना शुरू किया। उसकी चूत एकदम सफेद कामुकता से उभरी हुई थी और उस पर झांटे बिल्कुल ही छोटी थी। उसकी चूत गीली थी और सबसे पहले मैंने उसकी चूत का जूस चाटा और उसको बहुत देर तक चूसा और फिर उसकी चूत में अपनी जीभ को अंदर डालकर में घुमाने लगा। दोस्तों ये कहानी आप मस्ताराम डॉट नेट  पर पड़ रहे है।

फिर वो ज़ोर ज़ोर से सेक्सी आवाज करने लगी और बोली कि वाह जीजू उफ्फ्फफ्फ् आह्ह्हह्ह् मुझे बड़ा मज़ा आ रहा है और फिर मैंने कुछ देर बाद अपना लंड उसके मुहं में डाल दिया। उसने मेरा लंड अपने मुहं में ले लिया और अब धीरे धीरे मेरी साली ने मेरे मोटे लंबे लंड को चूसना चालू कर दिया। फिर करीब 15-20 मिनट तक में उसकी चूत को चाटता रहा और बाद में 20-22 मिनट तक उसने मेरे लंड को चूसा। अब में झड़ने वाला था तो मैंने उसको बताया कि में अब झड़ने वाला हूँ। फिर उसने मेरा लंड अपने मुँह से बाहर नहीं निकाला और वो तो अब और ज्यादा ज़ोर ज़ोर से मेरे लंड को चूसने लगी। फिर कुछ समय के बाद में झड़ गया और वो मेरा सारा रस पी गई। उसने मेरे लंड को पूरा झाड़कर ही छोड़ा और उसने मुझे अपने मुहं से ही चोद डाला। में उसके मुँह की चुदाई को देखकर बिल्कुल दंग रह गया। फिर उसने मेरा लंड अपने मुहं में लेकर चूस चूसकर दोबारा चुदाई के लिए तैयार किया और मैंने एक बार फिर से अपना लंड उसकी चूत के सामने रख दिया। फिर वो मुझसे कहने लगी कि जीजू जरा धीरे से डालना आपका लंड मोटा और लंबा बहुत ज्यादा है, क्योंकि मैंने कभी भी इतना लंबा और मोटा लंड नहीं लिया है इसलिए मुझे आपके लंड से बहुत डर लग रहा है।

फिर मैंने अपने लंड का टोपा उसकी प्यारी चूत के मुहं पर रखकर एक धक्का लगा दिया, जिसकी वजह से वो ज़ोर से चिल्लाई और कहने लगी ऊउईईईईइ स्स्सीईईईईइ माँ में मर गई। दोस्तों मेरा लंड ज्यादा मोटा था और उसको मोटा लंड लेने की आदत नहीं थी, इसलिए उसको बहुत जोरदार दर्द हुआ और वो आह्ह्हह्ह्ह्ह उफफ्फ्फ्फ़ करके चीखने लगी और उसी समय में उसके होंठो को अपने होंठो में और बूब्स को अपने दोनों हाथों में लेकर अपना लंड कसकर जोरदार धक्का देकर उसकी चूत में जबरदस्ती डाल दिया वो दोबारा चिल्लाई, लेकिन उसके होंठ मेरे होंठो में होने की वजह से उसकी आवाज़ ज्यादा बाहर नहीं जा सकी और फिर में थोड़ा सा रुक गया। फिर करीब पांच मिनट के बाद उसने मुझसे कहा कि अब मेरा दर्द थोड़ा सा कम हो गया है और अब तुम धक्के देना शुरू करो। फिर मैंने उसके कहने पर अपना लंड जो कि अब तक भी पूरा उसकी चूत के अंदर था। मैंने उसको धीरे धीरे आगे पीछे करना चालू किया और फिर मैंने कुछ देर बाद धीरे धीरे अपनी स्पीड को बढ़ा दिया। अब तो उसकी कमर भी हिलकर आगे पीछे होकर मेरा पूरा साथ दे रही थी और वो मुझसे कह रही थी कि जीजू आह्ह्ह्हह्ह मुझे बहुत मज़ा आ रहा आईईईईईई है और ज़ोर ज़ोर से करो ना। फिर मैंने उसका उत्साह और जोश देखकर अपनी स्पीड को बढ़ा दिया और अब उसने मेरी कमर को कसकर पकड़ लिया, जिसका मतलब साफ था कि शायद वो अब झड़ने वाली थी और में थोड़ी देर में मेरे लंड पर गीला महसूस करने लगा। में तुरंत समझ गया कि वो झड़ गई है।

फिर मैंने उसके दोनों पैरों को ऊपर अपने कंधों पर उठा लिया और मैंने अपनी स्पीड को बढ़ा दिया, क्योंकि अब में भी झड़ने वाला था इसलिए मैंने अपनी स्पीड को और भी ज्यादा बढ़ा दिया और कुछ देर धक्के देने के बाद में भी झड़ गया और मैंने अपना पूरा वीर्य उसकी चूत में निकाल दिया और वो भी इस बीच दो बार झड़ गई थी, जिसकी वजह से अब हम दोनों का माल उसकी चूत से बहकर बाहर आने लगा। फिर हम दोनों कुछ देर ऐसे ही लेटे रहे और फिर हम 69 की पोज़िशन में चाटने लगे और करीब 30 मिनट तक चाटने के बाद मैंने उसकी गांड में अपना लंड डालकर उसको चोदना चाहा और मैंने उससे यह बात कही तो उसने मुझसे गांड मारने के लिए साफ मना कर दिया और फिर उसने मुझे बाद में कभी करने के लिए कहा। फिर मैंने उसको डॉगी स्टाइल में और कभी एक पैर उठाकर तो कभी दोनों पैरों को उठाकर तो कभी उसके ऊपर लेटकर मैंने हर एक तरह से उसकी चुदाई के मज़े लिए। में उसको सुबह 5.30 बजे तक चोदता रहा और सुबह जब में उठा तो मेरी बीबी अपने जीजा के साथ उसके पेपर देने गई हुई थी। में उठकर नहाया और उसके बाद मैंने अपनी साली से पिछली रात की बात और मेरी उस चुदाई के मज़े के बारे में पूछा।

फिर वो मुझसे बिना कुछ कहे मेरी तरफ मुस्कुराकर मेरी तरफ आंख मारकर मेरे ऊपर लेटे गई और वो बोली कि में तुम्हारी उस चुदाई से बहुत खुश हूँ और तुमने जो मेरी प्यारी चूत को चोद चोदकर उसका आज भोसड़ा बना दिया है और वो बोली कि में बहुत खुश हूँ। फिर मैंने चाय पी और कुछ देर बाद मैंने और मेरी साली ने एक साथ बैठकर दिन का खाना खाया और उसके बाद में नीचे वाली मंजिल पर आकर उसकी सास से बातचीत करने लगा। कुछ घंटे बाद दोपहर को उसकी सास और बच्चे भी सो गये तो में वापस ऊपर अपनी साली के पास पहुँच गया और मैंने उससे बोला एक बार फिर से हो जाए? तो वो मुझसे मना करने लगी, लेकिन मेरे दूसरी बार कहते ही वो दोबारा से तैयार हो गई और हम दोनों ने एक दूसरे के अंगो को भरपूर चाटा। दोस्तों सच कहूँ तो में अब उसकी गांड का पूरी तरह से दीवाना बन चुका था, इसलिए मैंने उससे कहा कि में तो अब तेरी गांड में अपना लंड डालकर चुदाई के मज़े लूँगा, तो वो बोली कि प्लीज मेरी चूत को चोदो ना, लेकिन मेरी ज़िद के आगे वो तैयार हो गई और मैंने उसकी दोपहर में 1:30 घंटे गांड और 1 घंटे तक उसकी चूत को लगातार धक्के देकर चुदाई के मज़े लिए और फिर हम दोनों कुछ देर बाद अलग हो गये।

दोस्तों यह सिलसिला अब तक भी चल रहा। जब भी मुझे मौका मिलता में अपनी साली की चुदाई के मज़े लेता हूँ और मेरी साली का पति मेरी पत्नी को चोदता है, वो ससुराल में होने की वजह से मेरी पत्नी के पास ज्यादा रहता है और में अपनी साली के पास ज्यादा जाता हूँ, लेकिन हाँ में बता दूँ कि पिछले एक साल से जब से उसकी सास की मौत हुई है, में उन्ही के शहर में नौकरी करने जाता हूँ और में उस वजह से महीने में दो तीन बार रात को अपनी साली के पास पहुँच जाता हूँ और में जब भी वहां पर जाता हूँ तो में उसको पूरी रात अपने लंड के मज़े चखाता हूँ और में खुद उसकी चूत का और वो मेरे लंड का मज़ा लेती है।

धन्यवाद …

दोस्तों आज की एक और नई सेक्स कहानी पड़ने के लिये यहाँ क्लिक करें।